डिप्रेशन / तनाव जो मौत का कारण बन सकती है, कैसे निपटें? जानिए कुछ टिप्स

डिप्रेशन / तनाव मौत का कारण बन सकती है; यह सत्य है और कई बार ऐसा हुआ है लेकिन इससे निपटना भी संभव है। तनाव एक ऐसी बीमारी है जो धीरे-धीरे पनपती है। और व्यक्ति को ये समझ में आने लगता है कि वह डिप्रेशन में जाने वाला है। तो अगर तनाव को पहले ही नियंत्रित कर लिया जाये तो आत्महत्या जैसी स्थिति पैदा ही नहीं होगी। सबसे पहले तनाव के लक्षण जानना जरुरी है।

तनाव के लक्षण:

  • किसी भी बात को बहुत अधिक सोचना।
  • किसी से बात न करना अकेले रहना।
  • घर से बाहर न जाना और गुमसुम रहना।
  • भूख न लगना।
  • दोस्तों और सबसे दूरी बना लेना।
  • किसी काम में मन न लगना।
  • सिर में बहुत दर्द और शरीर में थकन का महसूस होना।
  • बेवजह रोने का मन होना और रोना।

ये सभी तनाव और डिप्रेशन के लक्षण है। अगर आपको ऐसे कोई भी लक्षण स्वयं में दिखाई देते हैं तो किसी अच्छे मनोचिकित्सक से मिले और उन्हें बतायें कि आप क्या महसूस कर रहे हैं। साथ ही साथ आप मैडिटेशन और योग का सहारा लें।

तनाव को दूर करने के सरल उपाय:

तनाव और डिप्रेशन को दूर करने के लिए आप नीचे दिए गए सरल उपाय अपनाये:

  • आपको जो भी काम अच्छा लगता है उसे करें।
  • मैडिटेशन और योग पर विशेष ध्यान दें। ऐसा करने से आपका मनोबल बढेगा और आपको सकारात्मक उर्जा मिलेगी।
  • आप कहीं घुमने के लिए जाएँ।
  • मन न हो तो भी दोस्तों के साथ बात करें उनके साथ पार्टी में जाएँ।
  • अपने खाने पर विशेष ध्यान रखें।
  • और डॉक्टर से इस बारे में सलाह जरुर लें ताकि वे आपको कोई रास्ता दिखा सकें।
  • अकेले न रहें, नहीं तो डिप्रेशन और तनाव आप पर हावी होगा।
  • अपनी दिनचर्या को सुधारें।

ये कुछ ऐसे सरल उपाय हैं जिनसे व्यक्ति खुश रहने लगता है और जहाँ ख़ुशी है वहाँ तनाव और डिप्रेशन के लिए कोई स्थान नहीं है। तनाव को शुरुआत में ही समझना बहुत जरुरी है तभी इसका इलाज आसानी से किया जा सकता है। अगर तनाव अवसाद में परिवर्तित हो जाता है तो व्यक्ति आत्महत्या जैसे कदम उठा लेता है। इसलिए ऊपर बताई गई इन बातों पर ध्यान दें।