3 बहुत बड़ी गलतियाँ जो भारत को नहीं करनी चाहिए लेकिन यूके और अमेरिका ने की

कोरोना के चलते विश्व के बड़े-बड़े देश जैसे अमेरिका और यूके कुछ ऐसी गलतियाँ कर चुके हैं जिन पर भारत को ध्यान देना बहुत आवश्यक है। भारत को इस प्रकार की गलतियाँ करने से बचना होगा। तो क्या आप भी जानना चाहते हैं कि ऐसी कौन सी गलतियाँ है जो अमेरिका और यूके ने की और भारत को नहीं करना चाहिए।

कोरोना के परिक्षण पर ध्यान नहीं दिया:

इन देशों में कोरोना के परिक्षण के लिए विशेषज्ञों ने सूचना दी थी कि जो भी लोग संदेह की स्थिति में हैं उनका परिक्षण करके जल्द ही उनकी रिपोर्ट देखी जाये। क्योंकि यह बीमारी बहुत ही जल्दी छूने से फैलती है इसलिए इसके परिक्षण की रिपोर्ट का जल्दी आना जरुरी था। और इसके लिए अहम् कदम उठाना जरुरी था लेकिन इस बात पर न तो अमेरिका ने ध्यान दिया और न ही यूके ने। जिसका परिणाम सबके सामने है।

मरीजों को परिक्षण की प्रतीक्षा किये बिना ही अस्पतालों से छुट्टी देना:

अमेरिका और यूके की यह एक बहुत बड़ी गलती रही कि उन्होंने मरीजों के परिक्षण की रिपोर्ट नकारात्मक आये बिना ही मरीजों की छुट्टी कर दी और उन्हें घर में रहते हुए किस प्रकार की साबधानी बरतनी है यह भी नहीं बताया।

यातायात के रास्तों को बंद न करना:

यूके एवं अमेरिका जैसे देशों ने सबसे बड़ी गलती ये की कि उन रास्तों से आवागमन बंद नहीं किया जहाँ से कोरोना के मरीजों के आने की आशंका थी। जब यह बीमारी बड़े पैमाने पर फैलने लगी उस समय यातायात के रास्तों को बंद किया गया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। अगर इस पर इन देशों की सरकार ने पहले ही ध्यान दिया होता तो आज ये देश इस तरह से कोरोना की चपेट में नहीं आते।

इन देशों ने तो ये गलतियाँ कर दी लेकिन भारत को ऐसी कोई भी गलती नहीं करनी चाहिए जिससे कि आगे के परिणाम और भी संदिग्ध हो जाएँ।